आखिर क्यों ब्राह्मण हमेशा अपने सिर पर रखते हैं चोटी, वजह जानकर सोच में पड़ जाएंगे आप

जमाना काफी बदल गया हे और अब हर किसी को हर चीज के बारे में जानकारी इंटरनेट के जरिए मिल जाती है। लेकिन वहीं कुछ परंपरा व रिती रिवाज आज भी हमें देखने को मिल जाते हैं जिनके पीछे का कारण हमें पता नहीं चल पाता है। दरअसल बात ये भी है कि इन रिवाजों को लोग दोहराते तो वर्षों से आ रहे हैं लेकिन उसके पीछे छिपे कारणों के बारे में शायद ही उन्हें पता होगा। आज हम आपको एक ऐसे ही विषय के बारे में बताने जा रहे हैं जी हां दरअसल आपने अक्सर पंडित और ब्राह्मणों को सिर पर चोटी रखते हुए देखा होगा।

लेकिन आपने ये सोचा है कि आखिर ये लोग ऐसा क्यों करते हैं। आज हम आपको इसी के बारे में बताएंगे कि आखिर क्यों ब्राह्मण और पंडित सिर पर चोटी रखते हैं। हमारी संस्कृति में हिंदुओं ने या कहें आध्यात्मिक मार्ग पर चलने वालों ने अपने सिर पर हमेशा चोटी या शिखा रखी है। यह एक चीज ऐसी है, जिसके बारे में लोग बहुत कम जानते हैं और अभी तक चिकित्सा के क्षेत्र में यह प्रमाणित नहीं है कि मस्तिष्क का एक और हिस्सा है, जिसे योग पद्धति में पहचाना गया है, वह है बिंदु। बिंदु का मतलब है, सबसे छोटा चिह्न, जो आगे और विभाजित न हो सके। दुनिया भर की कई सभ्यताओं ने मस्तिष्क में बिंदु की मौजूदगी को स्वीकार किया है।

अगले पेज पर जानें ब्राह्मण सिर पर क्यों रखते है चोटी 

Loading...