चरित्रहीन महिलाओं में होती हैं ये ख़ास निशानियां , ऐसे करें पहचान तो कभी नहीं खायेंगे धोखा

सांसारिक नजरिए से भी गौर करें तो धर्मग्रंथों में समाज या गृहस्थी का केन्द्र स्त्री ही बताई गई है स्त्री के चरित्र से जुड़ीं शास्त्रों की ये खास बातें आज करती हैं हैरान हिन्दू धर्मग्रंथों में स्त्री, कहीं देवियों की अद्भुत शक्तियों व स्वरूप में पूजनीय बताई गईं हैं, तो दूसरी ओर कई दानवीय स्वरूपों में स्त्री के विध्वंसक व बुरे चरित्र (ताडक़ा, शूर्पनखा, पूतना आदि) भी उजागर होते हैं दरअसल, इन स्त्री स्वरूपों व चरित्रों में यह सूत्र भी छुपे हैं कि जहां एक और स्त्री की शक्ति व सम्मान जीवन सुधार सकते हैं तो गलत आचरण बर्बाद भी कर सकते हैं।

महिलाये बहुत कोमल और सौम्य स्वभाव की होती हैं महिलाओं के दिमग को समझ पाना बहुत मुश्किल होता है कहा जाता है कि महिलाएं मामता की मूरत होती हैं लेकिन हर महिला एक जैसी नहीं होती महिलाओं के दिमाग को समझ पाना मुश्किल है लेकिन आप उनके चरित्र को समझ सकते हैं।

पैर की अंगुली

बृहद संहिता के अनुसार ऐसी स्त्री जिसके पैर की कनिष्ठिका अंगुली या उसके साथ वाली अंगुली, धरती को स्पर्श ना करती हो, अंगूठे के साथ वाली अंगुली अंगूठे से बहुत ज्यादा लंबी हो तो ऐसी स्त्रियां हालात और स्थिति के अनुसार अपना चरित्र बदल लेती हैं इसके अलावा जिन महिलाओं के पैर का पिछला भाग काफी मोटा और उठाव लिए होता है, उस भाग की नसें उभरी होती हैं, ऐसी महिलाएं घर के लिए शुभ नहीं होतीं।

पेट का आकार

स्त्री का पेट अगर घड़े की तरह होता है तो वह महिला ताउम्र गरीबी और दरिद्रता के हालातों से गुजरती है। पेट का अधिक लंबा, गड्ढेदार होना भी अशुभ की ही निशानी है।

पति के लिए अशुभ

ऐसी महिलाएं जिनका ललाट यानि माथा लंबा होता है तो वह अपने देवर के लिए अशुभ होती हैं, जिन महिलाओं का पेट लंबा होता है तो वे अपने ससुर और जिनका कमर के नीचे का हिस्सा भारी होता है वह अपने पति के लिए अशुभ होती हैं।

 

कुछ और भी निशानी जाने चरित्रहीन स्त्रीयों  की  अगले पेज पर :

Loading...