42 दिनों में CANCER ख़त्म ! 45000 से ज्यादा लोगों को ठीक करने का दावा किया है ऑस्ट्रिया के प्राकृतिक चिकित्सक Rudolf Breuss के विशेष जूस से..!!

कैंसर जो की एक जानलेवा बीमारी है जिसका अभी तक कोई उपचार नहीं मिल पाया है अगर कैंसर अपने लास्ट स्टेज में पहुच जाये तो इसीलिए कैंसर रोगियों के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी है की ऑस्ट्रिया के  रुडोल्फ ब्रूस  ने कैंसर के इलाज  के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक इलाज (alternative cancer treatments) खोजने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित किया है। इन्होने यह भी  बताया है की कैंसर के जीवाणु केवल  ठोस भोजन पर ही जिंदा रहते  है इसीलिए यदि कैंसर को बढ़ने से रोका जा सकता है यदि कैंसर का कोई मरीज 42 दिनों तक सिर्फ तरल पदार्थ का सेवन करे जैसे की सब्जिओं का रस और चाय ही पिए कुछ भी ठोस भोजन ना करे |

आपको बता दे की रुडोल्फ ब्रुश ने जो  कैंसर के मरीजों के लिए  ख़ास जूस तयार किया है उसका बहुत ही शानदार नतीजे देखने को मिल रहा है और उन्होंने अपने इस खास तैयार किये गये जूस को लगभग  45,000 से भी ज़यादा  कैंसर के मरीजों को दिया है जिसे पिने के बाद जिन्हें कैंसर या कई इसी लाइलाज बीमारियाँ थी वो पूरी तरह से ठीक हो गये है |

ब्रोज्स का कहना था के कैंसर सिर्फ प्रोटीन पर ही  जिंदा रहता है और कैंसर को ठीक करने का ये तरीका पूरे 42 दिनों तक चलता है क्योंकि कैंसर के सेल्स का मेटाबोलिज्म हमारे शारीर में मोजूद बाकी सेल्स से बिलकुल ही  अलग होता है इसीलिए  ब्रोज्स  का ये ख़ास किसम का रस इस तरह से तैयार  किया गया है जिससे की कैंसर के सेल्स तक कोई भी ठोस प्रोटीन युक्त भोजन ना  पहुच सके और जिससे उसे कोई खुराक न मिलने के कारण कैंसर के सेल्स अपने आप ही  नष्ट  हो जायेंगे और ये सिर्फ अपना काम कैंसर के सेल्स पर ही करता है इसीलिए इस  रस से  शरीर के बाकि सेल्स को कोई नुकसान  नही पहुचाता

कैंसर ले इलाज के दौरान इन 42 दिनों के दौरान सभी कच्चे फल और सब्जियां तरल रूप में दिए जाते हैं | ब्रोज्स ने इस बात पर खासा  जोर दिया है के कैंसर के मरीज़ को 42 दिनों तक सिर्फ रस और चाय ही देना चाहिए   इसके इलावा कोई भी ठोस चीज़ नहीं लेना चाहिए | इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए की इस  दौरान इस्तेमाल की जाने वाली सब्जियां कुदरती  तरीके से उगाइ गई हों और अच्छे से साफ की गई हों क्योकि इनमे कई तरह के रसायन होते है जो नुकसानदायक हो सकता है और कच्चे फल और सब्जिओं का रस हमेशा से ही बहुत सारी  बिमारिओं के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है |

विज्ञान  ने  तो यह  साबित किया है के कच्चे फल और सब्जिओं में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते है साथ ही कई ऐसे  तत्व पाए जाते है जिनका हमारे भोजन में शामिल होना बहुत ज़रूरी है जिससे की  हम आज कल के वातावरण में खुद को खतरनाक बिमारिओं से बचा सकें |

 

 

आइये बताते है ब्रोज्स के खास रस को बनाने का तरीका जिससे कैंसर को सिर्फ 42 दिनों में ठीक किया जा सकता है

इस ख़ास जूस  में इस्तेमाल होने वाले फल और सब्जियां:

1 चुकंदर

1 गाजर

1/2 आलू

1/4 मूली

5 g अजवायन के पौधे की डंडी अगर ना मिले तो अजवायन का सत्व का  भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

वैसे तो उपरोक्त सभी चीजें ज़मीन के अन्दर ही पाई जाती हैं और ज़मीन में यूरिया वगैरह डालने के कारण इनका प्रभाव कम मिलता है और इसके अलावा  इनके  ऊपर से रासायनिक छिडकाव भी  होता है| इसलिए जितना संभव हो सके कोशिश करें की साडी चीजे आर्गेनिक ही मिले

उपरोक्त बताई गयी सभी चीज़ों को एक साथ साफ कर के जूसर  में डाल  कर अच्छे से रस निकाल  लें और फिर इस रस को  छान लें और ध्यान रहे की इस रस में कसी भी प्रकार की कोई भी ठोस चीज़ उसमें  में न जाएँ  और इसे एक गिलास में डाल कर इसे ताज़ा तजा ही पीयें |इससे आपको जरुर लाभ मिलेगा |

 

Loading...