रजाई ओढ़कर सोई थी बेटी, माँ ने कमरे में जाकर रजाई उठाई तो उड़ गए होश, जाने फिर क्या हुआ

इस जिंदगी का कोई भरोसा नहीं हैं. कब किसके साथ कौन सा हादसा हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता हैं. कई बार तो ये जिन्दगी हमें हद से ज्यादा दुःख दर्द देती हैं और साथ ही हमारे परिवार के लोगो की तकलीफे भी बड़ा देती हैं. ऐसा ही कुछ छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में रहने वाली एक महिला के साथ भी हुआ. दरअसल ये महिला दिन में जब घर आई तो उसकी बेटी रजाई ओढ़कर सोई हुई थी. जब महिला ने बेटी के शरीर से ये रजाई हटाई तो उसे कुछ ऐसा दिखा कि उसके होश ही उड़ गए. आइए विस्तार से जानते हैं क्या हैं ये पूरा मामला…

दरअसल ये घटना बीते शनिवार की हैं. यहाँ अंबिकापुर में तारामणि नाम की एक महिला अपनी बेटी और नातिन के साथ रहती हैं. तारामणि की बेटी 22 वर्षित गीता आगरिया ने 8 दिन पहले ही एक बच्ची को जन्म दिया था. बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के बसंतपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम परसडीहा निवासी गीता की शादी यूपी के म्योरपुर के रहने वाले सुरेन्द्र अगरिया से हुई थी. ससुराल वाले गीता को पसंद नहीं करते थे जिसके चलते शादी के बाद से ही वो अपने मायके में रह रही थी. अभी हाल ही में 8 दिन पहले उसने एक बेटी को भी जन्म दिया था.

ऐसे में बीते शनिवार जब गीता की माँ तीरामणि जब दोपहर में घर में घुसी तो उसने अपनी बेटी को रजाई ओढ़कर सोया हुआ पाया. जब माँ ने पूछा कि क्या हुआ तो बेटी ने धीमी कहराती आवाज़ में बोला कि वो आग जलाकर खुद को शेक रही थी कि तभी इसकी चपेट में आ गई और बुरी तरह झुलस गई. इसके बाद जब मा ने रजाई हटाई तो उसके होश उड़ गए. बेटी का पूरा शरीर आग की वजह से झुलस गया था.

अगले पेज पर देखिए फिर क्या हुआ?

Loading...