बड़ी ख़बर: ऐश्वर्या राय बच्चन और बेटी आराध्या कोरोना को हरा कर वापिस लौटे घर, अभिषेक ने दी ये गुड न्यूज़

मुंबई: अमिताभ बच्चन की बहु ऐश्वर्या राय बच्चन और पोती आराध्या बच्चन आख़िरकार आज कोरोना जैसी खतरनाक महामारी से जंग जीत कर वापिस घर लौट गई हैं. दोनों माँ बेटी मुंबई के नानावती अस्पताल में बुखार आने के बाद आइसोलेशन वार्ड में रखी गईं थीं. लेकिन अब इनकी जांच के बाद रिपोर्ट नेगेटिव आ गई है जिसके चलते अस्पताल प्रशासन ने दोनों को छुट्टी दे कर घर भिजवा दिया है. बता दें कि ऐश्वर्या को अपनी 8 वर्षीय बेटी आराध्या के साथ लगभग 10 दिनों तक अस्पताल रहना पड़ा था. ऐसे में अब उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है. इस बात की जानकारी अभिषेक बच्चन ने हाल ही में दी है.

ट्वीट के ज़रिए दी जानकारी 

अभिषेक बच्चन ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट की है. इस ट्वीट में उन्होंने फैन्स का शुक्रिया करते हुए लिखा कि, “आप सब लोगों की लगातार दुआओं और शुभकामनाओं का हार्दिक धन्यवाद. मैं हमेशा आप सभी का ऋणी रहूँगा. ऐश्वर्या और आराध्या की रिपोर्ट आख़िरकार नेगेटिव आ गई है और उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है. अब वह दोनों घर पर ही रहेंगी. लेकिन मैं और पापा फ़िलहाल अस्पताल के मेडिकल स्टाफ की निगरानी में ही रहेंगे.”

होम क्वारंटाइन थीं पहले दोनों

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि 11 जुलाई को बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन को कोरोना लक्षणों के चलते जांच के बाद टेस्ट पॉजिटिव आया था. इसके बाद ही उनके बेटे अभिषेक बच्चन भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. हालाँकि ऐश्वर्या राय और आराध्या की पहली रिपोर्ट नेगेटिव आई थी, लेकिन दूसरे टेस्ट में दोनों मेंकोरोना संक्रमण पाया गया था. इसके बाद दोनों को घर पर ही रखा गया था जबकि अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन को नानावती अस्पताल में शिफ्ट किया गया था. होम क्वारंटाइन के कुछ दिनों बाद ही दोनों को बुखार व हलकी खराश महसूस हुई थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया था.

अमिताभ बच्चन अभी भी अस्पताल में हैं भर्ती

ताज़ा रिपोर्ट्स के अनुसार अमिताभ बच्चन और बेटे अभिषेक बच्चन अभी भी अस्पताल में आइसोलेटेड हैं. अभी तक दोनों की रिपोर्ट नेगेटिव आने का इंतज़ार किया जा रहा है. फैन्स लगातार बच्चन परिवार के लिए दुआएं कर रहे हैं. बता दें कि बच्चन परिवार के सदस्यों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद उनके बंगले जलसा, प्रतिभा, जनक और वत्स को सील कर दिया गया था. साथ ही बच्चन हाउस में काम करते स्टाफ और उनसे जुड़े 30 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमे से 26 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई थी.